काशीवासियों के लिए खोले जाएं काशी के मुख्य देवालय- विश्व हिन्दू सेना

काशीवासियों के लिए खोले जाएं काशी के मुख्य देवालय- विश्व हिन्दू सेना

वाराणसी। पूरे देश को आज इंतजार है कि कल से लॉक डाउन खुलेगा या फिर से उसकी मियाद बढ़ाई जाएगी। काशीवासियों को इंतजार है तो बस इस बात का कि लाकडाउन खुले या बढ़ाया जाए लेकिन बड़े मंदिरों में दर्शन की अनुमति मिल जाय। इन्ही सब पशोपेश के बीच देश के हिंदुत्ववादी संगठन विश्व हिन्दू सेना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश आदित्यनाथ योगी से देवालयों के खोले जाने की मांग की है। विहिसे राष्ट्रीय अध्यक्ष अरुण पाठक ने कहा कि राष्ट्रीय कार्यकारिणी की कमिटी की बैठक की गई जिसमें कई राष्ट्रीय पदाधिकारी ऑनलाइन जुड़े हुए थे। इस बैठक में देवालयों के खोले जाने के संबंध में चर्चा की गई और यह निर्णय लिया गया कि देवालयों को खोले जाने के लिए पीएम और सीएम से अपील किया जाय। कोरोना संक्रमण से बचने के लिए भले ही सरकार सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करे लेकिन केवल काशीवासियों को दर्शन के लिए जरूर अनुमति दें।

आपको बता दें कि विश्व की धार्मिक राजधानी काशी में एक अच्छी खासी श्रद्धालुओं की संख्या वर्षों से नियमित दर्शन का लाभ लेते हैं। लाकडाउन के परिस्थिति में वो ये लाभ नही ले पा रहे हैं ऐसे में वो अपने इष्ट से इस दूरी को मानसिक तौर पर सहन नहीं कर पा रहे हैं। अरुण पाठक ने कहा कि जब बड़े से बड़े बीमारी में डॉक्टर भी जवाब दे देते हैं और अंत मे भगवान पर भरोसा करने को कहते है, बड़े से बड़े आपदा में भी लोग भगवान को याद करते हैं और राहत पाते हैं, न्यायालयों में भी बड़े से बड़े मुकदमे में निर्णय से पहले लोग भगवान को याद करते हैं , यहां तक कि अदालत में गवाही से पहले ईश्वर की शपथ दिलाई जाती है। तो ऐसे परिस्थिति में जब पूरा विश्व कोरोना महामारी से लड़ रहा है उस वक्त देवालयों को खोलना धार्मिक दृष्टिकोण से आवश्यक हो जाता है। उन्होंने कहा कि जब पूरे देश मे सशर्त बाजार खुल रहे हैं, मदिरालय खुल रहे हैं तो सशर्त देवालयों में दर्शन पूजन का भी छूट देने चाहिए। काशी में श्रीकाशीविश्वनाथ मंदिर, संकटमोचन, दुर्गामंदिर , कालभैरव मंदिर ऐसे मुख्य मंदिर हैं जिसमे नियमित दर्शनार्थियों को ध्यान में रखकर देवालयों को खोला जाना चाहिए जो सर्वथा न्यायोचित है। विश्व हिन्दू सेना के राष्ट्रीय कमिटी की बैठक में राष्ट्रीय अध्यक्ष अरुण पाठक के अलावा उपाध्यक्ष रविन्द्र चौरसिया, महासचिव बिपिन ओझा, प्रवक्ता काशीनाथ शुक्ल, सचिव दिग्विजय चौबे (ऑनलाइन), कोषाध्यक्ष राकेश श्रीवास्तव व मीडिया प्रभारी कमलेश दुबे आदि उपस्थित रहे और अपना विचार व्यक्त किया।

रिपोर्ट : दिनेश मिश्र