मेकअप किट एवं मसालों से किया चित्रांकन

ज्ञान एवं विज्ञान का संगम- मेकअप किट एवं मसालों से किया चित्रांकन

बलिया। कलाकार कभी खाली नहीं बैठते चाहे महामारी हो या और कुछ । घर बैठकर ही सही अपने कला से समाज के लिए कुछ न कुछ अभिव्यक्त करते ही रहेंगे । ऐसी ही हैं बलिया में रहने वाली नेहा सिंह जो वर्तमान में काशी हिन्दू विश्वविद्यालय से वैदिक विज्ञान केन्द्र में अध्ययन कर रही हैं। मगर जब से लॉकडाउन घोषित हुआ है तब से बलिया में अपने घर पर ही हैं ।

वैदिक ज्ञान एवं आधुनिक विज्ञान के समन्वय के बिना कुछ भी संपूर्ण नहीं हो सकता । आज आधुनिक विज्ञान कितना भी आगे चला गया हो, कहीं न कहीं उसका जड़ वैदिक ज्ञान से जुड़ा है । ईशावास्योपनिषद इस बात को और स्पष्ट करती है ।

इसी सोच विचार पर आधारित एक चित्रांकन नेहा सिंह ने अपने घर बैठकर किया है । अचानक घर जाने के कारण कोई भी पेंटिंग का सामान नहीं ले जा पायीं मगर कलाकार हर चीज़ से रंग भर देते हैं । नेहा ने मेकअप का सामान एवं रसोई के कुछ मसालों से एक ऋषि एवं उनके बगल में बैठकर ज्ञान प्राप्त करते हुए एक आधुनिक वैज्ञानिक का चित्रांकन किया है ।

किसी गुरु के सानिध्य में बैठकर वैदिक ज्ञान को समझने को “उप-निषद” कहते हैं । नेहा के द्वारा बनाई गई चित्र भी कुछ ऐसे ही इशारा कर रहे हैं । वेद एवं विज्ञान जब एक साथ रहेंगे तभी कोरोना हारेगा।

नेहा पहले से ही दो दो विश्व रिकार्ड अपने नाम कर चुकी हैं और हालही में दशोपनिषद पर पेंटिंग के द्वारा दुनिया का पहला डिजिटल एल्बम भी बना चुकी है ।

रिपोर्ट : काशीनाथ शुक्ल