कलेक्टर के आदेश की धज्जियां उडा रहे पेटलावद के मेरिज गार्डन संचालक, रात्री 10 बजे बाद भी चलाये जा रहे तेज आवाज़ मे डीजे, रहवासी इलाको मे स्थित गार्डन बने रहवासीयो की परेशानी का सबब

कलेक्टर के आदेश की धज्जियां उडा रहे पेटलावद के मेरिज गार्डन संचालक, रात्री 10 बजे बाद भी चलाये जा रहे तेज आवाज़ मे डीजे, रहवासी इलाको मे स्थित गार्डन बने रहवासीयो की परेशानी का सबब

New@- कुंवर शान ठाकुर – 
पेटलावद (झाबुआ) – प्रशासन द्वारा विद्यार्थीयो की परिक्षाओ को मद्देनजर रखते हुए पुरे प्रदेश सहीत जिले मे ध्वनि विस्तारक यंत्रो पर प्रतिबंधित किया हैं। जिसको लेकर जिला कलेक्टर प्रबल सिपाह द्वारा झाबुआ जिले मे भी रात्री 10 बजे से लेकर सुबह 06 बजे तक पुर्ण रूप ध्वनि विस्तारक यंत्रो पर प्रतिबंधित किया है। किन्तु कलेक्टर के आदेश की धज्जियां उडाते हुए पेटलावद के नीजी मेरिज गार्डन संचालको द्वारा रात्री 10 बजे के बाद भी तेज आवाज मे डीजे बजाये जा रहे है। जिससे छात्र-छात्राओ सहीत नागरिको को परेशानीयो का सामना करना पड रहा है। जिस और प्रशासन को तत्काल संज्ञान लेते हुए मेरिज गार्डन संचालको के खिलाफ कार्यवाई कड़ी कार्यवाई करना चाहिए।

दिनांक 27/01/2020 को जिला कलेक्टर प्रबल सिपाह द्वारा जिले मे हाईस्कूल/हायर सेंकण्डरी स्कूल तथा महाविद्यालयो एंव पोलिटेक्निक महाविद्यालय मे अध्यनरत विधार्थियो की परिक्षाएं को मद्देनजर रखते हुए एंव शादियो की शुरूआत को देखते हुए विधार्थीयो की पढाई मे असुविधा ना हो जिसको लेकर कोलाहल नियंत्रण अधिनियम के 1985 के तहत् ध्यनि विस्तारक यंत्रो के उपयोग पर प्रतिबंध लगाया है। जिसके तहत् नियमो उल्लघंन करने वालो के खिलाफ अधिनियम की धारा -15 (1) के अतंर्गत छ माह का दंड या एक हजार रूपये जुर्माना या दोनो से दण्डनीय होगा। कलेक्टर द्वारा जारी किये गये कड़े आदेश के बाद भी पेटलावद नगर मे मेरिज गार्डन के संचालक बिना रोकटोक मनमानी की तर्ज पर विद्यार्थीयो के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रहे है। पेटलावद नगर मे कई ऐसे गार्डन है जो रहवासी कालोनीयो के बिच बने हुए है। जहां देर रात तक डीजे की तेज आवाज से रहवासी बेहद परेशान हो रहे है।

डाॅक्टरो के अनुसार भी देखा जाये तो डीजे की तेज आवाज से मानसीक डिप्रेशन एंव बेहरेपन का भी खतरा रहता है। जबकी नगर मे कई ऐसे मेरिज गार्डन है जो रहवासी इलाके मे स्थित और उन्ही रहवासी कालोनीयो मे कई ह्रदय रोग के मरिज भी निवास करते है, जिनके लिए मेरिज गार्डन जान का खतरा भी बने हुए है। प्रशासन को तत्काल इस और कार्यवाई करना चाहिए।