16 माह पहले बोई अमरूद की फसल हुई तैयार, फसल देख किसान हुए मायूस, अतिवृष्टि के चलते अमरूद की फसल हुई प्रभावित –

16 माह पहले बोई अमरूद की फसल हुई तैयार, फसल देख किसान हुए मायूस, अतिवृष्टि के चलते अमरूद की फसल हुई प्रभावित –

News@- राजेश राठौड़ –
रायपुरिया (झाबुआ)- महीने पहले बोई हुई अमरूद की फसल आज पक कर तैयार हुई तो उसे अंचल में अतिवृष्टि ने तकरीबन सभी फसलों पर अपना प्रभाव डाला है रायपुरिया के किसान गंगाराम पाटीदार ने अपने खेत पर एक एकड़ खेत पर अमरूद के 500 पौधे लगाए थे ताकि नगदी फसल का वाजिब दाम मिल जाए लेकिन उनकी उम्मीदें पर पानी फिर गया 5 दिसंबर के दिन बड़े उत्साह से अमरूद की तुड़ाई करने पहुंचे तो पौधों पर खराब अमरूद लगे हुए दिखाई दिए करीबन एक क्विंटल अमरूद खराब निकले व अच्छे अमरुद के 20 बॉक्स तैयार हुए किसान कहते हैं कि क्या करें हम जिस खेती में अपना भाग्य आजमाते हैं वह हमारा साथ ही नहीं दे रही है हमने सोचा था कि टमाटर की खेती को धीरे धीरे बंद कर देंगे और नई तकनीकी की खेती करेंगे लेकिन वह भी हमारे साथ नहीं है दिल्ली मंडी में अमरूद के भाव अच्छी क्वालिटी के 70 से 80 रुपये बिक रहे हैं लेकिन हमारे अमरूद 50 रुपये किलो ही बिक रहे हैं उसका कारण अंचल में अधिक बारिश होना बताया जा रहा है इस अमरूद की खेती में तीन लाख रुपये का खर्च हो गया पहली बार आज की तुडाई की शुरुआत हुई तो उसमें भी इतनी खराब निकली की कह नहीं सकते अज्ञात बीमारी भी इन पौधों पर लग गई है लेकिन मालूम नहीं पड़ रहा क्या बीमारी है रायपुरिया अंचल में किसानों का रुख अब बागवानी की ओर बढ़ रहा है लेकिन प्रकृति उनका साथ देने के लिए तैयार नहीं है ऐसे में अब वह क्या करें किसानों को कृषि विभाग के अधिकारीयो को आकर सलाह देना चाहिए की बागवानी में किन किन दवाइयों का छिड़काव करें।