भ्रष्ठ ग्राम पंचायत मोहकमपुरा ओर बाबुलाल ने शोचलाय निर्माण में लगा दिया शासन और गरीबो को चुना, अपना काम बनता भाड़ में जाए जनता की तर्ज पर मंचा रहे लूट का तांडव, आज भी ग्रामीण करते है यंहा खुले में शौच, ओडीएफ हुआ फेल –

भ्रष्ठ ग्राम पंचायत मोहकमपुरा ओर बाबुलाल ने शोचलाय निर्माण में लगा दिया शासन और गरीबो को चुना, अपना काम बनता भाड़ में जाए जनता की तर्ज पर मंचा रहे लूट का तांडव, आज भी ग्रामीण करते है यंहा खुले में शौच, ओडीएफ हुआ फेल –

News@- Kr. SHAN THAKUR
पेटलावद (झाबुआ) – आदिवासी बाहुल्य झाबुआ जिले की जनपद पंचायत पेटलावद मे शौचालय निर्माण मे भारी भ्रष्ट्राचार सामने आ रहे है। दिनो दिन ग्राम पंचायतो एंव स्वच्छ भारत अभियान के ब्लाक समन्यवयक बाबूलाल परमार के कारमाने उजागर हो रहें। लगातार हमारे द्वारा शौचायल निर्माण की जो पोल खोली जा रही है। जिससे ग्रामीणो मे भी शौचालय निर्माण को लेकर जागरूकता देखी जा रही है। कई ग्रामीण हमसे सीधे सम्पर्क भी कर रहे है। और उनके साथ हुए अन्याय की पीडा सुनाते हुए भ्रष्ट्र बाबूलाल की षडयंत्रनिति भी उजागर कर रहे है। शौचालय निर्माण के इस बडे भ्रष्ट्राचार की एक और तस्वीर हम आपके सामने लेकर आये।

जानिए पुरा मामला –
मामला जनपद पंचायत पेटलावद की ग्राम पंचायत मोहकमपुरा का है। जहां शौचालय निर्माण के नाम पर मात्र कागजो पर इतिश्री की गई है। ग्राम मे घटिया निर्माण व भ्रष्ट्राचार की भरमार है। ग्रामीण शौचालय निर्माण को लेकर काफी परेशान है आज भी ग्रामीण खुले जंगल मे अपनी जान को जोखिम मे डालकर शौच करने को मजबूर हो रहे है। ग्रामीणो की माने तो वह शौचालय को लेकर काफी खुश थे की अब उन्हे खुले मे शौच से मुक्ति मिलेगी किन्तु बाबूलाल व भ्रष्ठ ग्राम पंचायत की मिलीभगत से उनकी खुशी पर पानी फिर गया। ग्राम मोहकमपुरा के ग्रामीणो के साथ बाबूलाल व पंचायत ने भारी विश्वासघात किया है, ग्रामीणो को लम्बे समय से बाबूलाल व पंचायत द्वारा झुठे सपने दिखाये जा रहे है। कई ग्रामीण बार-बार बाबूलाल व पंचायत के कार्यालय के चक्कर काट-काट कर परेशान हो चुके हैं। किन्तु अब भी उनके घर शौचालय नही पंहुचा है।

ग्रामीणो की जुबानी –
ग्रामीण मानसिंग दितिया हटीला, तोलसिंग जोसब ताहेड, सोहन बालू हटिला, रामसिंग बाबू हटिला, कैलाश भग्गू हटिला, नरसिंग रणसिंग भुरिया, शारदा भाभोर, रामसिंग भुरिया, भारतसिंग सामा गुण्डिया, शैतान हिरजी गुण्डिया रामसिंग रामजी भाभोर, कल्ला बारिया रतनसिंग बारिया, देवली बाई, दिनेश भुरिया भगवती भुरिया, मढिया बारिया, मुकेश भुरिया, नरसिंग अरदु बारिया सहीत कई ग्रामीणो ने बताया की ग्राम मोहकमपुरा मे शौचालय निर्माण के नाम पर मात्र भष्ट्राचार किया गया है, ग्राम मे कुछ घरो पर शौचालय निर्माण किया गया था जो पूर्ण रूप से घटिया है। कहीं शौचालयो के गड्डे नही बने है तो कहीं शौचालयो के दरवाजे टुटे हुए है। शौचालय सिर्फ दिखावी बने हुए है लेकीन उपयोग लायक कतई नही है। अधुरे पडे शौचालयो मे बडी-बडी घास फैल चुकी जीव-जन्तुओ का ठिकाना शोचालय बन चुके है किन्तु जिस उद्देश्य से शौचालय बनाये जाना है वह उदेश्य जनपद क्षेत्र मे पुरा होता नही दिखाई दे रही है। ग्रामीणो के आरोप है की शौचालय निर्माण हेतू हम पर ही बाबूलाल परमार द्वारा दबाव बनाया जा रहा है और हमारे घर से पैसा लगाकर शौचालय निर्माण करवाये जबकी हमारे पैसे पंचायत के खाते मे जमा किये जा चुके है। और हमे गुमराह किया जा रहा है। ग्रामीणो मे बाबूलाल और पंचायत के प्रति भारी आक्रोश देखा जा रहा है अगर जल्द शौचालय निर्माण को लेकर कोई निराकरण नही किया जाता है तो ग्रामीणो द्वारा जल्द आंदोलन किया जायेगा।

बाबूलाल मतलब भ्रष्ट्राचार –
‘‘बाबूलाल मतलब भ्रष्ट्राचार’’ हम इस शब्द का उपयोग यहां इसलिए कर रहे है क्योकी हमारी टीम जिन भी पंचायतो मे शौचालय निर्माण को लेकर सर्वेे कर रही है वहां सबसे पहले बाबूलाल का नाम आता है। हर पंचायतो मे ग्रामीण पंचायत से ज्यादा बाबूलाल से परेशान है। बाबूलाल परमार ने पंचायतो मे भ्रष्ट्राचार की ऐसी नीव डालदी है। जिसे जड से उखाडना काफी मुश्किल होगा। सुत्रो की माने तो बाबूलाल के कारनामे हमारे द्वारा जब से उजागर किये जा रहे है, जब से बाबूलाल ने उच्च अधिकारीयो को भी अपने षडयंत्र मे फसाने की तैयारी कर ली है। जिन पंचायतो की जमीनी हकीकत कुछ और बया करती है उन पंचायतो को बाबूलाल ने ओडीएफ घोषित कर कागजो पर महारत हासिल कर रखी है।

अगले अंक मे शौचालय निर्माण मे हुए भ्रष्ट्राचार की बडी तस्वीर के साथ हम फिर खोलेगे बाबूलाल व ग्राम पंचायत के कारनामो की परत-दर-परत।