दबंगई के साथ जनपद सदस्य बनाता है घटिया सड़क, इंजीनियर करता है फर्जी मूल्यांकन, जनपद के अधिकारी सोए कुमकर्णीय नींद में, भ्रष्टाचार चरम पर –

दबंगई के साथ जनपद सदस्य बनाता है घटिया सड़क, इंजीनियर करता है फर्जी मूल्यांकन, जनपद के अधिकारी सोए कुमकर्णीय नींद में, भ्रष्टाचार चरम पर –

News@- Kr. SHAN THAKUR
पेटलावद (झाबुआ) – पेटलावद जनपद पंचायत क्षेत्र में बड़े स्तर पर हो रहे भ्रष्टाचार को हम लगातार खबरों के माध्यम से उजागर कर रहे है। जिस क्रम में एक ओर बड़ा भ्रष्टाचार हम आपके सामने लेकर आये है।

यह है मामला –
मामला जनपद पंचायत पेटलावद की ग्राम पंचायत मोईचारणी का है, जंहा बारिश के पूर्व करीब 3 लाख 85 हजार की लागत से सीसी सड़क का निर्माण जनपद निधि के माध्यम से किया गया था। सीसी सड़क कलाल फलिये में आगनवाड़ी केंद्र से लेकर करीब 200 मीटर बनते हुए मंदिर तक बनना था। किन्तु अनियमिमताओ के साथ बनाये गए गुणवत्ताहीन सीसी सड़क को कुछ मीटर के भीतर ही बना कर छोड़ दिया गया। सीसी सड़क की स्थिति इतनी खराब थी कि वह पहली बारिश में ही धूल गया। सीसी सड़क का निर्माण जनपद निधि से किया गया था। ओर पूरे भ्रष्टाचार में जनपद सदस्य मोतीलाल की खास भूमिका रही।

ग्रामीणों की जुबानी –
ग्रामीण मोरसिंग गरवाल, राजू टांक, दिलीप टांक सहित कई ग्रामीणों ने सीसी सड़क में हुए भ्रष्टाचार की पोल खोलते हुए बताया कि बारिश के पूर्व सीसी सड़क निर्माण किया गया था जो पूर्ण रूप से गुणवत्ताहीन बनाया गया है, सीमेंट गिट्टी मटीरियल की जगह बड़े-बड़े पत्थर सीसी रोड के नीचे डाल दिये गए और ऊपर से सीमेंट रेत का छिड़काव कर दिया गया। जो पहली बारिश में ही पानी के साथ धूल गया।  ग्रामीणों ने गेती से खुदाई कर हमें केमेरे के सामने घटिया सीसी सड़क का नजारा दिखाया जिससे हमारे केमेरे ने कैद किया।

जिम्मेदार बोले —
मामले को लेकर सरपंच से चर्चा करना चाही तो सरपंच ने अपना झाबुआ होना बताया कि में आकर जानकारी देता हूं।
———-
वही जब मामले को लेकर पंचायत के सचिव लक्ष्मण मुनिया से चर्चा की गई तो सचिव ने बताया कि सीसी सड़क का निर्माण हुआ है जो जनपद निधि से किया गया है परंतु पंचायत का इसमें कोई हस्तक्षेप नही है हमारे जनपद सदस्य है जो हर बार अपनी मनमानी करते हुए सारे निर्माण कार्यो को अपने हिसाब से करते है, यह कार्य भी उनके द्वारा किया गया है। वही भुगतान तो इंजीनियर के मूल्यांकन के बाद ही किया गया है।
———-
मामले में जनपद सीईओ एन.एस चौहान का कहना है कि में अभी अभी यंहा आया हु यह मामला मेरे संज्ञान में नही है में दिखवाता हु।
———-
पूरे मामले जनपद पँचायत एवं ग्राम पंचायत एवं मूल्यांकन करने वाले इंजीनियर की भूमिका संदेह के घेरे में है क्योंकि लाखो रुपये की लागत से बनने वाले सीसी सड़क को एक जनपद सदस्य अपने हिसाब से बनाता है, और पूरा पैसा भी वसूल करता है और जिम्मेदार जनपद के अधिकारी एवं इंजीनियर द्वारा घटिया सड़क का मूल्यांकन भी किया जाता है और उस घटिया सड़क का पूरा भुगतान भी हो जाता है। ऐसे में जिम्मेदारो की कार्यप्रणाली संदेह के घेरे में है। पेटलावद जनपद पंचायत क्षेत्र में उच्च अधिकारियों को संज्ञान लेने की आवश्यकता है क्योकि स्थानीय अधिकारी सरपंच सचिव एवं फर्जी मूल्यांकन करने वाले इंजीनियर अपनी जेब गर्म करने में लगे है इन सभी भ्रष्टाचारियो पर कार्यवाई होना आवश्यक है।