देवउठनी ग्यारस से शुभ कार्यो की होगी शुरुआत, 4 माह बाद अब सुनाई देगी शादीयो की शहनाई, ढोल-बेंड की बुकिंग हुई शुरु –

देवउठनी ग्यारस से शुभ कार्यो की होगी शुरुआत, 4 माह बाद अब सुनाई देगी शादीयो की शहनाई, ढोल-बेंड की बुकिंग हुई शुरु –

News@- राजेश राठौड़ –
रायपुरिया (झाबुआ) – 8 नवंबर कार्तिक शुल्क पक्ष की एकादशी जिसे देवउठनी ग्यारस भी कहा जाता है उस दिन से सभी शुभ कार्य की शुरुआत हो जाती है। 4 माह बाद गूंज सुनाई देगी। कहते हैं कि भगवान विष्णु चतुर्मास की निंद्रा से देवउठनी ग्यारस को जग जाते हैं। शादियों की शुरुआत एकादशी के दिन से हो जाती है सबसे पहले कहार समाज से शुरू होती है उसके बाद अन्य समाज के यहां होती है लेकिन समय के परिवर्तन होने से भागदौड़ इस झंझट से अब कहार समाज भी दूसरे की तरह अपने बच्चों शादियां करने लग्न लेकर करते हैं। मोहन कहार, मुकेश कहार, मनीष कहार बताते हैं कि पहले देवउठनी ग्यारस के दिन ही हमारी समाज में एक ही दिन शादी होती थी लेकिन अब हमारी समाज के लोगों ने बैठक कर यह तय किया कि एक ही दिन में सभी दूर रिश्तेदारों के यहां नहीं पहुंच पाते हैं इसलिए अब जो लग्न मिलते हैं उनमें शादी करते हैं। बैंड रायपुरिया के बैंड बाजे के संचालक अपनी अपनी गाड़ियों को दुरुस्तीकरण करने लग गए हैं वही शादियों की बुकिंग शुरू हो चुकी है
रायपुरिया जनता बैंड के संचालक राजु बारोट ने बताया कि 4 महीने बाद और फिर बैंड और ढोल के काम शुरू होने वाले हैं नए साल की बुकिंग भी शुरू हो गई है क्षेत्र में इस बार महंगाई की वजह से शादियों में थोड़ी कमी सी है ,आधुनिकता के इस जमाने में हमें भी नई बैंड की गाड़ियां लानी पड़ रही है टेंट व्यवसाय हलवाई घोड़ी मैरिज गार्डन पत्रिका छपाई सभी जगह पर बुकिंग हो रही है