थांदला के वरिष्ठ अभिभाषक श्री यशवन्तराय भट्ट का दुःखद निधन, नगर युवाओं के प्रेरणास्त्रोत व अभिभाषकगण के मार्गदर्शक के तौर पर हमेशा याद रहेंगे –

थांदला के वरिष्ठ अभिभाषक श्री यशवन्तराय भट्ट का दुःखद निधन, नगर युवाओं के प्रेरणास्त्रोत व अभिभाषकगण के मार्गदर्शक के तौर पर हमेशा याद रहेंगे –

News@- इमरान खान –
थांदला (झाबुआ) – कहते है दुनिया से कोई विदा हो जाये तो दुख होता है, कोई अपना चला जाये तो केवल अपनो को ही दुख होता है लेकिन यदि कोई समाजहित पर प्रेरक चला जाये तो सबको बहुत दुख होता है। थांदला नगर ने भी आज एक महान हस्ती को खो दिया है। आज उनको अपना आदर्श मानने वाले त्योहारों के समय में भी सैकड़ो की संख्या में उनके अंतिम दर्शन यात्रा में पहुंचे। हरदिल अजिज पत्रकारिता के महारथी, प्रदेशभर में अपनी वकालात की अनूठी छाप छोड़ने वाले वरिष्ठ अभिभाषक, समाजसेवी, सरस्वती नन्दन स्वामी गुरुद्वारा के परम् आराधक यशवंतराय भट्ट ने अल्प बीमारी के बाद दुनिया को अलविदा कह दिया। भट्ट ने अपने जीवन में थांदला में रहते हुए 49 वर्षो तक न्यायालय में बतौर अधिवक्ता अपनी सेवाएं दी। वे अधिवक्ता के साथ ही पत्रकारिता में भी अपनी उपस्थिति समय समय पर दर्ज करवाते रहे उनके सामयिक लेख आज भी युवाओं को प्रेरित करते है। श्री वैकुंठ धाम गुरुद्वारा में तथा ब्राह्मण समाज मे भी उनकी मार्गदर्शन भूमिका सभी को एक बंधन में पिरोए रखने की रही। जिस प्रकार अपने परिवार को एक बंधन में पिरोए रखा ठीक उसी प्रकार से समाज मे भी एकजुट रहने का संदेश देते रहे।

 बेटो ने दी मुखाग्नि – यशवन्तराय भट्ट की अन्तिम यात्रा आज उनके निवास स्थान से नगर के दक्षिण छोर पर बने स्वर्गद्वार तक निकाली गई जिसमें सभी समाजजन व नगर के गणमान्य नागरिक शामिल हुए। ब्राह्मण समाज के किशोर आचार्य आदि पंडितों द्वारा उनका विधिवत अंतिम क्रिया कर्मकाण्ड करवाते हुए उनके बड़े बेटे तरुण भट्ट व छोटे बेटे तुषार भट्ट ने उनको मुखाग्नि प्रदान की। उनके साथ परिवारजनों व समाजजनों ने भी उनको मुखाग्नि दी।

सासंद -विधायक -नगर परिषद अद्यक्ष-नगर परिषद उपाद्यक्ष सहित अनेक हस्तियों ने दी श्रद्धांजलि – क्षेत्र के सासंद गुमानसिंह डामोर, विधायक वीरसिंह भूरिया, पूर्व विधायक कलसिंह भाभर, नगर परिषद अध्यक्ष बंटी डामोर, उपाध्यक्ष मनीष बघेल, राष्ट्रीय मानवाधिकार एवं महिला बाल विकास आयोग के प्रदेशाध्यक्ष पवन नाहर, अभिभाषकगण अध्यक्ष सलिम शेरानी, वरिष्ठ अभिभाषक साथी व्यंकटेशराय अरोड़ा पूनम चंद गादिया, जैन समाज अध्यक्ष जितेंद्र घोड़ावत, कमलेश दायजी, अरविंद रुनवाल, महावीर मेहता, राठौड़ समाज के अध्यक्ष नारायण राठौड़, ब्राह्मण समाज अध्यक्ष , वरिष्ठ नारायण भट्ट सहित अनेक समाज प्रमुख, पत्रकारगण, अभिभाषक संगठन, जनप्रतिनिधियों व समाजसेवी ने उनकी अंतिम यात्रा में शामिल होकर व दूरभाष पर उन्हें श्रद्धांजलि दी।