शोचालय निर्माण में हुए भ्रष्टाचार की पोल खुलते देख बौखलाया अधिकारी बाबूलाल और पंचायत सचिव, सोशल मीडिया के जरिये भ्रष्टाचार उजागर करने वाले युवक को दे रहे धमकियां, सुनिए पीड़ित युवक की पीड़ा अधिकारी बाबुलाल ओर सचिव ने किस तरह युवक को बनाया अपना शिकार –

शोचालय निर्माण में हुए भ्रष्टाचार की पोल खुलते देख बौखलाया अधिकारी बाबूलाल और पंचायत सचिव, सोशल मीडिया के जरिये भ्रष्टाचार उजागर करने वाले युवक को दे रहे धमकियां, सुनिए पीड़ित युवक की पीड़ा अधिकारी बाबुलाल ओर सचिव ने किस तरह युवक को बनाया अपना शिकार –

News@- कुँवर शान ठाकुर –
पेटलावद (झाबुआ) – वर्षो से झाबुआ जैसे आदिवासी बाहुल्य जिले में सरकारी दफ्तरों में बैठे अधिकारी या ग्राम पंचायत स्तर पर देखे तो सरपंच मंत्री भ्रष्टाचार करते आये है, ओर लगातार कर भी रहे है। झाबुआ जिले में बड़े-बड़े भ्रष्टाचार सामने आये है। कई बड़े भ्रष्टाचार ऐसे भी है जो अब तक उजागर नही हो पाए है। क्योकी जिले में गरीब भोले-भाले आदिवासी है निवास करते है, जिनका कम शिक्षा के चलते लंबे समय से शोषण किया जा रहा है। अब कही जाकर जब युवा पीढ़ी आगे आकर अपने हक की ओर अपने समाज की लड़ाई लड़ रही है तो उनकी आवाज दबाने के लिए भ्रष्टाचारियो द्वारा तमाम प्रयास किये जा रहे है।
——
ताजा मामला झाबुआ जिले के पेटलावद जनपद क्षेत्र के ग्राम पंचायत बोडायता से सामने आया है। जंहा अधिकारियों एवं पंचायत की मिलीभगत से ठेकेदार द्वारा किये गए शौचालय निर्माण में हुए भ्रष्टाचार को छुपाने के लिए एक युवक को बेहद परेशान किया जा रहा है। साथ ही उसे धमकाया भी जा रहा है। युवक एक ऑनलाइन पोर्टल से जुड़कर अपने गांव में हो रहे भ्रष्टाचार को उजागर करना चाहता था और उसने किया भी।

ग्राम पंचायत बोडायता के ग्राम नाहरपुरा के रहने वाले अर्जुन पिता शंकरलाल चरपोटा ने दिनांक 11 अक्टूम्बर को एक निजी पोर्टल ”झाबुआ-धार न्यूज” पर एक खबर प्रकाशित की थी। जिसमे पँचायत के ग्राम नाहरपुरा में हुए शौचालय निर्माण में भ्रष्टाचार की हकीकत सबके सामने लाई थी। जिसे प्रमुख अखबारों एवं न्यूज़ पोर्टलों द्वारा भी उचित स्थान दिया गया था। जिससे बौखला कर स्वच्छ भारत अभियान अंतर्गत पेटलावद ब्लॉक समन्वयक अधिकारी बाबुलाल परमार एवं ग्राम पंचायत बोडायता के सचिव द्वारा युवक अर्जुन को एफआईआर दर्ज करवाने एवं युवक को फंसा कर केरियर खराब करने जैसी धमकियां दी जा रही है। चुकी युवक कालेज मे 1st year का स्टूडेंट भी है। बाबुलाल व सचिव द्वारा खुद ही एक माफीनामा भी लिख कर जबरन हस्ताक्षर करने को लेकर युवक अर्जुन पर दबाव भी बनाया जा रहा है। साथ युवक को कलेक्टर व एसडीएम के नाम से धमकी दी जा रही है कि माफीनामा लिख कर दे अन्यथा तेरे खिलाफ एफआईआर दर्ज करवा दी जाएगी। युवक इस अधिकारी व पंचायत के मंत्री से परेशान हो चुका है। युवक अर्जुन ने बताया कि लगातार मिल रही धमकियों से वह बेहद परेशान है साथ ही उसका परिवार भी भयभीत है, क्यो की जिस शोचायल को लेकर खबर प्रकाशित की गई थी। उसे तोड़ने व झूठी खबर चलाने के आरोप लगाकर युवक को बाबूलाल व पंचायत सचिव द्वारा षड्यंत्र रचकर फसाने के प्रयास भी किये जा चुके है। युवक अर्जुन ने सिर्फ सच्चाई को सबके सामने लाने का प्रयास किया है किंतु उस पर दबाव बनाकर उसे फसाने तक के प्रयास अधिकारी बाबूलाल व सचिव ने कर लिए है।
युवक अर्जुन को +919575377813 इन नबरों से लगातार फोन आये है। इन नबरों पर हमारे द्वारा जब सम्पर्क करना चाहा तो यह नबर बाबू लाल परमार ने रिसीव किया। ओर जब हमने मामले को लेकर चर्चा करना चाही तो निर्वाचन में हु कह कर फोन काट दिया गया।

जिले में कई बड़े भ्रष्टाचार हुए है लगातार मामले सामने भी आ रहे है। और बात करे शौचालय निर्माण की तो जिले में ओडीएफ घोषित पंचायतों की स्थिति भी कुछ खास नही है, कही शोचालय उपयोग लायक नही है तो कही धराशाई होकर गिर रहे है। लेकिन जिम्मेदार अधिकारी सिर्फ वाहवाही लूटने में मस्त है। ओर अगर कोई उनके खिलाफ आवाज उठाता है तो युवक अर्जुन चरपोटा की तरह उसे धमकाया जाता है। ताकि भविष्य में कोई फिर उनके खिलाफ आवाज ना उठा सके। किन्तु इस बार युवक अर्जुन ने हिम्मत दिखाकर हमसे सीधे संपर्क किया और अपनी पीड़ा हमे सुनाई ओर धमकाउ अधिकारी व पँचायत मंत्री के खिलाफ आवाज उठाकर उन्हें जोरदार तमाचा दिया है।

सूत्रों की माने तो युवक द्वारा शोचालय निर्माण की जो खबर प्रकाशित की थी उसमें उच्च अधिकारियों ने सज्ञान लेते हुए जांच के आदेश भी दिए जिससे बौखलाकर अधिकारी बाबुलाल व पंचायत सचिव द्वारा युवक पर माफीनामा लिख कर देने हेतु दबाव बनाया जा रहा है।

”हमारी खबर में आप भी सुनिए किस तरह एक युवक भ्रष्टाचार की लड़ाई में एक भ्रष्ट अधिकारी व पंचायत सचिव का शिकार हुआ है।