कल है करवा चौथ, पति की लंबी आयु की कामना हेतु महिलाए करेगी निर्जला व्रत –

कल है करवा चौथ, पति की लंबी आयु की कामना हेतु महिलाए करेगी निर्जला व्रत –

News@- राजेश राठौड़ –
रायपुरिया (झाबुआ) – कल 17 अक्टूबर करवा चौथ व्रत कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को किया जाता है यह व्रत सुहागिन माता बहनों का प्रमुख व्रत है जो वर्ष में उनके लिए एक विशेष त्यौहार की भांति आता है प्रायः सभी जाति वर्ग और आयु की नववधू से लेकर वृद्धा स्त्रियां तक अपने पति के अच्छे स्वास्थ्य एवं दीर्घायु की कामना के लिए करती है वामन पुराण अनुसार श्री कृष्ण भगवान से द्रोपदी ने अर्जुन की रक्षा के तथा विघ्न दूर करने के लिए यह व्रत किया था इस व्रत उपवास में फलाहार नहीं किया जाता स्त्रियां निर्जला व्रत रखकर रात्रि में चंद्रोदय होने पर मिट्टी से बने करवे से चंद्र दर्शन कर अर्ध्य देने व पूजा करने के बाद वह अपने पति के मुख को नई छलनी में देखकर व्रत का पारण किया जाता है सभी स्त्रियां एकत्र होकर चौथ माता के बने चित्र के सामने बैठकर पूजा करती है गीत गाती है व्रत की कथा सुनी जाती है और चंद्रोदय होने का इंतजार किया जाता है बाजारों में करवे बेचने वाले प्रजापति समाज के लोग व्रत के 5 से 6 दिन पहले से हाथ ठेला गाड़ी में करवे लेकर बेच रहे हैं किराना दुकानों पर करवा चौथ व्रत की सामग्र लेने के लिए महिलाएं पहुंच रही है पंडित योगेश शर्मा ने बताया की इस व्रत को करने के लिए महिलाओं में काफी उत्साह देखा जा रहा है महिलाएं ब्यूटी पार्लर व मेहंदी लगाकर सज धज रही है अलंकार ज्वेलर्स के व्यापारी कैलाश पाटीदार ने बताया कि करवा चौथ व्रत 1 दिन पहले महिलाएं हमारी दुकान से चांदी की बिछिया ले जाती है दिन भर यही क्रम चलता रहता है पुरुष अपनी पत्नी को व्रत वाले दिन शाम को पूजा करने के बाद ज्वेलर व साड़ियां उपहार देते हैं ग्रामीण अंचलों में करवा चौथ व्रत करने के लिए आदिवासी महिलाओ में भी अब उत्सुकता हो गई है क्योंकि वह महिलाएं बाजारों में आती है तो वह देखती है कि दूसरी महिलाएं यह व्रत करती है तो उनमें भी अपने पति के लिए लंबी उम्र के लिये व्रत करने लगी हैं।