बारिश थमने के साथ ही क्षेत्र से शुरू हुआ पलायन, सोयाबीन की कटाई हेतु मजदूरी पर निकले ग्रामीण –

बारिश थमने के साथ ही क्षेत्र से शुरू हुआ पलायन, सोयाबीन की कटाई हेतु मजदूरी पर निकले ग्रामीण –

News@- राजेश राठौड़ –
रायपुरिया (झाबुआ) – आदिवासी चले मालवा निमाड़ मैं सोयाबीन फसल की कटाई करने के लिए, जैसे ही बारिश रुकी सोयाबीन की फसल कटाई का दौर शुरू हो चुका है पेटलावद तहसील के आदिवासी मालवा निमाड़ मैं मजदूरी करने के लिए निकल जाते हैं। वह वापस नवरात्रि समाप्त होगी तब तक अपने घर आएंगे वहां पर प्रतिदिन के हिसाब से ₹400 मजदूरी मिलती है अपने साथ छोटे-छोटे बच्चे भी ले जाते हैं ताकि उनका हाथ खर्च निकल जाए जब वह सोयाबीन की कटाई करते हैं तो जो दाने खेत में गिर जाते हैं उनको यह बच्चे बीना कर इकट्ठा करते हैं बाद में बाजारों में बेच देते हैं अंचल के आदिवासी राखी त्योहार मनाने के लिए पहले से ही मालवा निमाड़ के किसानों से पैसा ले लेते हैं की हम तुम्हारे यहां सोयाबीन की सीजन में कटाई करने के लिए आ जाएंगे पहले तो बसों में यह लोग मजदूरी करने के लिए जाते थे लेकिन अब वहां के किसान इनके लिए साधन भेजते हैं ताकि मजदूर इनके यहां आसानी से पहुंच सके।