रेत पर उकेरा गया श्रीकृष्ण जन्म और श्रीकृष्ण का प्रकृति प्रेम

पुलिस लाइन में आज मनाया जाएगा भव्य श्रीकृष्णजन्मोत्सव

भगवान कृष्ण का जन्म कारागार में हुआ था। इस कारण पुलिसकर्मी पूरे उल्लास के साथ जन्माष्टमी का पर्व मनाते हैं। पूरे प्रदेश में पुलिस लाइन से लेकर थानों तक जन्माष्टमी पर श्रीकृष्ण की झांकी सजाई जाती है। शुक्रवार को वाराणसी के पुलिस लाइन में भी जन्माष्टमी समारोह की तैयारियां सुबह से ही होती रही।

आईपीएस डॉ अनिल ने बताया कि रात्रि में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर पुलिस लाइन में विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। जिसमे स्कूली बच्चे और पुलिसकर्मी भी सांस्कृतिक कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे। भव्यता में कोई कमी न रहे इसलिए बराबर मॉनिटरिंग की जा रही है। इससे पूर्व कलाकार रूपेश ने पुलिस लाइन परिसर में रेत से श्री कृष्ण की विभिन्न कलाकृतियों को आकार देकर रंग-बिरंगे चमकिलों से सजाने में लगे हैं। रूपेश दो दिन से कलाकृति बनाने में लगे हैं। इसमें प्रकृति जीव जंतुओं के साथ श्रीकृष्ण का जन्म व वासुदेव द्वारा श्रीकृष्ण को यमुना नदी पार करते हुए, शेषनाग आदि का चित्र रेत द्वारा उकेरा गया है।

वहीं पुलिसकर्मी रत्नेश राय ने कहा कि भारत में हीं नहीं बल्कि विदेशों में बसे भारतीय भी इसे पूरी आस्था व उल्लास से मनाते हैं। श्रीकृष्ण ने अपना अवतार भाद्र माह की कृष्ण पक्ष की अष्टमी को मध्यरात्रि को अत्याचारी कंस का विनाश करने के लिए मथुरा के कारागार में लिया था। चूंकि भगवान कृष्ण कारागार में अवतरित हुए थे अत: इस दिन पुलिसकर्मी पूरे श्रद्धा व भाव के साथ कृष्ण जन्माष्टमी के रूप में मनाते हैं।

रिपोर्ट : विकास यादव