रायपुरिया के कांतिलाल भण्डारी द्वारा किया गया आत्मकल्याणक करी तप –

रायपुरिया के कांतिलाल भण्डारी द्वारा किया गया आत्मकल्याणक करी तप –

News@- राजेश राठौड़ –
रायपुरिया (झाबुआ) -आचार्य भगवंत पूज्य गुरुदेव श्री उमेशमुनि जी म.सा.(अनु)के दिव्य आशीर्वाद से आगमविराषद बुध पुत्र प्रवर्त्तक पूज्य श्री जिनेन्द्रमुनि जी म.सा. के सानिध्य में रायपुरिया जैन श्रावक संघ के अध्यक्ष श्री कांतिलाल सा भंडारी द्रारा ” आत्मकल्याणक करि तप ” ( 41 उपवास ) की दीर्घ तपस्या की गई।।
उन्होंने इस महान तप को कर के जिनशासन की प्रभावना की है। पूर्व में भी ( 3 मासखमन ) व ( 5 वर्षीतप ) कर चुके हैं।।
यह तप पूण कर आप ने बड़े ही सादगी पूण रूप से अपने निवास स्थान पर परिवार के साथ पारना किया ।एवं सभी परिवार जनो को धर्म दिशा में कुछ ना कुछ प्रत्याख्यान करवा कर “पारणा” किया तथा परिवार में धर्म के प्रति बच्चो एवं बड़ो को जाग्रत किया। झाबुआ जिले के पहले ऐसे जैन शावक हैं जिन्होंने 41 उपवास किए उन्हें कभी ऐसा महसूस नहीं हुआ कि वह उपवास कर रहे हैं वह कहते हैं कि यह तो परमात्मा की कृपा रही यूं तो अभी चतुर्मास चल रहा है वही जैन समाज के युवा वह बुजुर्ग शाम सुबह स्थानक भवन पर जाकर तपस्या कर रहे हैं।