माता महाकाली मंदिर न्यास की तरफ से कोई व्यवस्था नहीं यात्री हुए दरबदर : राजीव चाढक

अव्यवस्था के कारण श्रद्धालु हुए परेशान जिला प्रशासन रहा आंखें मूंदे

श्रद्धालुओं ने कहा श्राइन बोर्ड गठन अति आवश्यक

बाहु फोर्ट जम्मू जनवरी 01, 2019 : नववर्ष के अवसर पर लोग आस्था का केंद्र मंदिर मे जाकर भगवान से अपने परिवार एवं सगे संबंधियों के परिवार की सुख,शांति, शक्ति, सम्पत्ति, स्वास्थ, संयम, सादगी, सफलता, समृध्दि,साधना और संस्कार, प्रदान करने की कामना करते हैं इसी कड़ी में आज माता महाकाली मंदिर वावे वाली माता बाहु फोर्ट में श्रद्धालुओं का तांता लगा हुआ है परंतु जिला प्रशासन यातायात विभाग और एसपी साउथ की ओर से अव्यवस्था फैलने के कारण आज श्रद्धालुओं में आक्रोष देखने को मिला !


सड़क के दोनों किनारों पर गाड़ी है पार्क की हुई थी प्रातः 12:00 बजे के बाद ट्रैफिक पुलिस एवं एसपी साउथ का अमला यहां सक्रिय हुआ उसके बाद राष्ट्रीय राजमार्ग बाईपास से बावे वाली माता की ओर आने वाली गाड़ियों को रोक दिया जिससे श्रद्धालु बड़ी दूरी का फैसला तय करते हुए पैदल मां के दर्शनों के लिए आना पडा !
आम श्रद्धालुओं का कहना है कि जिला प्रशासन गहरी नींद सोया रहता है जब कभी हिन्दू पर्व होते है तो इस तरह की परिस्थिति देखने को मिलती है ! ऐसे पर्व हर वर्ष होते है परन्तु सरकार की डायरी मे नही लिखे जाते ऐसे अवसर पर जिला प्रशासन को पहले से व्यवस्था कर लेनी चाहिए ताकि कोई अप्रिय घटना घटे!

वाहु फोर्ट डिवैलमैट कमैटी के प्रधान राजीव चाढक का कहना है कि ऐसा ही हाल नवरात्रों के दौरान भी रहता है जिला प्रशासन व्यवस्थाओं की सिर्फ औपचारिकता पूरी करता है परंतु जो व्यवस्था वास्तव में करनी चाहिए वह करने में विफल रहता है जबकि यहां पर प्रशासन के हर व्यक्ति को यह ज्ञात है की बावे वाली माता मंदिर के समक्ष पार्किंग क्षेत्र बहुत कम है जिसमें कम गाड़ियां लगती हैं इसके इलावा रेलवे टनल की ओर नई पार्किंग स्थापित की गई है मगर वहां गाड़ी लगवाने के लिए ट्रैफिक पुलिस चाहिए मगर प्रशासन की ओर से इस प्रकार की कोई भी दिशा विभागों को नहीं दी होती जिस कारण श्रद्धालुओं को खामियाजा भुगतना पड़ता है
उन्होने कहा कि यह प्रक्रिया हर वर्ष रहती है लोगों की आस्था मां वावे वाली में है और लोग माता महाकाली बाबे वाली के दर्शनों हेतु एवं मां से आशीष पाने हेतु यहां आते हैं परंतु सुविधाएं नाम की यहां पर कोई चीज नहीं है जिला प्रशासन और माता महाकाली मंदिर न्यास की तरफ से कोई भी प्रबंध यहां नहीं किए जाते जिस कारण श्रद्धालु दर बदर की ठोकरें खाने पर मजबूर हो जाते हैं कई !
उन्होने कहा कि कई श्रद्धालुओं हमे यह भी कहते है कि इस का एक ही हल है जिस यहां पर श्रद्धालुओं को सुविधाएं मिल सकती है यहां पार्किंग एरिया बड़े यात्री गृह बने उसके लिए आपके द्धारा श्राइन बोर्ड की मागं एकदम सही है ! श्राइन बोर्ड का बनना बहुत जरूरी है !
उन्होने कहा कि एक समय ऐसा था कि सिर्फ किला बाहु विकास समिति के लोग ही श्राइन बोर्ड की मांग करते थे परंतु आज हर श्रद्धालु की जुबान पर यही है कि यहां बेहतर सुविधाओं के लिए श्राइन बोर्ड का होना जरूरी है !
वाहु फोर्ट डिवैलमैट कमैटी के प्रधान राजीव चाढक ने राज्य के महामहिम राज्यपाल से मांग की कि इस मंदिर का अतिशीघ्र श्राइन बोर्ड गठित किया जाए ताकि भविष्य में लोगों को इस प्रकार की सुविधाओं से ना गुजरना पडे उन्होंने कहा कि गत वर्ष से श्राइन बोर्ड बिल टूरिज्म कमिश्नर फैक्ट्री के ऑफिस में लंबित पढ़ा हुआ है उस पर संज्ञान लेते हुए उस पर अति शीघ्र कार्य करने की अवस्था है ताकि श्रद्धालुओं को सुविधाएं मिलें और बेरोजगार नौजवानों को रोजगार!

नरेश जमवाल ,, स्टेट हेड ,, जम्मू कश्मीर