न्यायिक की चेतावनी, आर्टिकिल 32 के उपयोग से नहीं बचेंगे बाहुबली नेता

2018 BREAKING NEWS CRIME STATE VARANASI

 न्यायिक की चेतावनी, आर्टिकिल 32 के उपयोग से नहीं बचेंगे बाहुबली नेता

वाराणसी के समाजसेवी और प्रख्यात लेखक राकेश श्रीवास्तव ‘न्यायिक’ ने बाहुबली नेताओं को चेतावनी दी है कि वो आर्टिकिल 32 का उपयोग कर उनकी राजनैतिक करियर ख़त्म करा सकते हैं। न्यायिक ने ये बातें अपने यूट्यूब चैनल के माध्यम से कही हैं। उन्होंने वीडियो के माध्यम से कहा है कि वो दागी बाहुबली नेताओं के नाम के आगे से ;माननीय’ शब्द को हटवाकर दम लेंगे। यही नहीं न्यायिक ने बहुत सी ऐसी बातें कहीं जिससे सोशल मीडिया पर खलबली मच गयी है। इसके लिए उन्होंने मुख्य चुनाव आयुक्त ,प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति को पत्र लिख चुके हैं और ऐसे नेताओं के नाम से माननीय शब्द हटाने के लिए रिट दायर करने की तैयारी में हैं।

समाजसेवी राकेश न्यायिक ने उन्नाव काण्ड पर दुःख व्यक्त करते हुए कहा कि ऐसे नेता ही माननीय शब्द को कलंकित कर रहे हैं। ऐसे नेताओं के वजह से राजनीती में आपराधिक छवि हावी हो रही है। ऐसे लोगों की बढ़ती संख्या पर न्यायिक काफी चिंतित हैं और इसीलिए वो माननीय शब्द को हटवाना चाहते हैं। राकेश श्रीवास्तव न्यायिक ने बताया कि पुरे लोकसभा, राज्य सभा ,विधानसभा और विधान परिषद् में 36 प्रतिशत दागी हैं जो माननीय बने हुए हैं और इनकी संख्या बढ़ती ही जा रही हैं। इन दागी बाहुबलियों को आईएएस और आईपीएस जैसे अफसरों को सलामी ठोकनी पड़ती हैं। अगर ऐसे लोग समाज के प्रहरी बनेंगे तो समाज का क्या होगा।

राकेश श्रीवास्तव ‘न्यायिक’ द्वारा जारी वीडियो 

भारतीय संविधान के भाग तीन में नागरिकों के मूल अधिकारों का वर्णन किया गया है। इसमें संवैधानिक उपचारों का अधिकार (अनुच्‍छेद 32) नागरिकों को अपने मूल अधिकारों के प्रवर्तन या उल्लंघन के विरुद्ध सुरक्षा के लिए भारत के सर्वोच्च न्यायालय में जाने की शक्ति देता है। अनुच्छेद 32 स्वयं एक मूल अधिकार के रूप में, अन्य मूल अधिकारों के प्रवर्तन के लिए गारंटी प्रदान करता है। संविधान द्वारा सर्वोच्च न्यायालय को इन अधिकारों के रक्षक के रूप में नामित किया गया है।राकेश न्‍यायिक के अनुसार दागी और बाहुबली नेताओं के इसी रसूख और पॉवर को देखकर समाज में गलत संदेश जा रहा है। नतीजा, काफी संख्‍या में युवा इन्‍हें अपना रोल मॉडल मानने लगे हैं। वो बृजेश सिंह, मुख्‍तार अंसारी, राजा भइया जैसे दागी नेताओं जैसा बनना चाहते हैं। न्‍यायिक ने आरोप लगाया कि ये लोग जबरदस्‍ती चुनाव जीतते हैं, पैसों और अपने गुर्गों के बल पर।

REPORT : K N SHUKLA

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *