लिलिपुट ने ताजमहल को कहा ‘कन्फ्यूजन’

2018 ENTERTAINMENT UP

‘लिलिपुट’ ने ताजमहल को कहा ‘कन्फ्यूजन’

बदलते दौर के साथ लगातार कॉमेडी का स्तर गिरता जा रहा है। कॉमेडियन आज कॉमेडी में वाहियात बातें कर कॉमेडी के स्तर को लगातार गिरा रहे हैं। पहले के दौर में कॉमेडी में मजाक किया जाता था लेकिन आज कॉमेडी में मजाक उड़ाया जाता है। ये बातें कॉमेडियन व टीवी कलाकार एमएम फारुकी उर्फ लिलिपुट ने एक प्रेस वार्ता में कही। एक शादी समारोह में शामिल होने अलीगढ़ पहुंचे कॉमेडियन एमएम फारुकी मैरिस रोड स्थित एक रेस्टोरेंट में पत्रकारों से रूबरू हुए। उन्होंने कहा कि वाहियात  डायलॉग में बदलाव आया है। इसके चलते जनता को बेवकूफ बनाया जा रहा है। इस तरह जनता पर सीरियल थोपना अन्याय है। लिलिपुट ने  कहा कि फिल्म इंड्रस्टी में बालीवुड की जगह हॉलीवुड आ गया है। पहले डायरेक्टर सूझबूझ के साथ कलाकार का चयन करते थे लेकिन आज बिना सूझबूझ के ही कलाकारों को काम दिया जा रहा है। तभी अधिकतर फिल्मों के साथ ही सीरियल ज्यादा दिन तक नहीं चल पा रहे हैं।

पहले डायरेक्टर से कलाकार सीधे मिलकर काम मांगते थे लेकिन आज डायरेक्टर से सीधे नहीं मिला जा सकता। लिलिपुट ने कहा कि कुछ दिनों पहले “बत्ती गुल मीटर चालू” फिल्म के लिए उन्हें छोटे विकास के अभिनय के लिए चुना गया था लेकिन कुछ दिन बाद ही फोन पर उन्हें अभिनय के लिए साफ मना कर दिया गया। लिलिपुट ने  बताया कि वह आगरा में ताजमहल देखकर आए।

 

 

इसके बाद उन्होंने ताजमहल का नाम मजाक में ‘कन्फ्यूजन’ रखा है क्योंकि लिलिपुट का मानना है कि शाहजहां ने ताजमहल बनाकर मोहब्बत की निशानी बनाई या फिर दौलत का सहारा लेकर गरीबों की मोहब्बत का मजाक बनाया। एक सवाल के जवाब में  लिलिपुट ने  कहा कि वह एक्टिंग स्कूल व एक्टिंग क्लास के खिलाफ हैं। क्योंकि कलाकार गॉड गिफ्टेड होते हैं उन्हें कोई बना नहीं सकता। इसलिए एक्टिंग क्लास व एक्टिंग स्कूलों में लोगों को बेवकूफ बनाया जा रहा है। 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *