‘यूपी ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट 2018’ के लिए योगी सरकार ने झोंकी पूरी ताकत, तैयारियां पूरी

BREAKING NEWS BUSINESS COUNTRY POLITICS STATE

                                                                                                                                          INVESTORS SUMMIT 2018

यूपी समिट 2018 का कल से आगाज़ हो जायेगा जिसकी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। पुरे लखनऊ को दुल्हन की तरह सजाया गया है। क्योंकि सभी केंद्रीय मंत्रियों के अलावा यूपी के सभी मंत्री और देश के जाने माने उद्योगपति इस से में शिरकत करेंगे। बड़े उद्योगपतियों में अम्बानी और टाटा सरीखे उद्योगपति दो दिवसीय इन्वेस्टर्स समिट 2018 में शामिल हो सकते हैं। ये समिट 21 व 22 फरवरी को लखनऊ में इंदिरा गाँधी प्रतिष्ठान में संपन्न होगा।

 

सीएम योगी आदित्यनाथ इंदिरा गाँधी प्रतिष्ठान पहुंचकर जायज़ा लिए और उन्होंने कहा कि यह आयोजन उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा जनता की बेहतरी के लिए किया जा रहा है। प्रत्येक विभाग की यह जिम्मेदारी है कि वह इसकी सफलता के लिए सारे प्रयास करें और जिम्मेदारियों का भली-भांति निर्वाह करे।

इस आयोजन के माध्यम से उत्तर प्रदेश के पास अपनी छवि बदलने का मौका है। इससे बड़े पैमाने पर प्रदेश में निवेश आएगा, जिससे रोजगार के अनेक अवसर सृजित होंगे और प्रदेश के नौजवानों को रोजगार मिलेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाए कि इन्वस्टर्स समिट-2018 में आने वाले गणमान्य अतिथियों जैसे केन्द्रीय मंत्रिगण,केन्द्रीय मंत्रालयों के वरिष्ठ अधिकारीगण, उद्योगपतियों, निवेशकों इत्यादि को कोई असुविधा न हो। उनकी अगवानी की जाए,उन्हें एस्कोर्ट करते हुए उनके गंतव्य तक आना-जाना सुनिश्चित किया जाए। इन सभी के ‘पास’ समय से पहले उपलब्ध करा दिए जाएं, ताकि उन्हें कार्यक्रम स्थल में प्रवेश इत्यादि में कोई दिक्कत न हो। उनके साथ सम्मान जनक व्यवहार किया जाए तथा उनकी सुविधा के लिए उनके साथ सक्षम अधिकारी लगाए जाएं।

 

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में 21-22 फरवरी को होने वाली ‘यूपी ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट’ के लिए योगी सरकार ने पूरी ताकत झोंक दी है। सरकार की कवायद यह है कि इस बार लखनऊ में होने जा रही यह बहुप्रतीक्षित समिट केवल ‘रस्मी’ बनकर न रह जाए बल्कि समिट के बाद इसका ठोस नतीजा भी निकले जिसका लाभ उप्र ही नहीं, पूरे देश को मिल सके।

 

फिलहाल अधिकारियों का दावा है कि लगभग एक लाख करोड़ रुपये के निवेश की जमीन तैयार हो चुकी है।

औद्योगिक विकास विभाग से जुड़े एक आईएएस अधिकारी ने आईएएनएस को बताया, “21-22 फरवरी को लखनऊ में होने वाले इस आयोजन से पहले सरकार ने पूरे देश में माहौल बनाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी है। दिल्ली, बेंगलुरू, हैदराबाद, कोलकाता, अहमदाबाद और मुंबई में इन्वेस्टर्स समिट के लिए रोड शो भी हुआ, जिसमें 200 से अधिक उद्योगपतियों एवं उनके प्रतिनिधियों ने भाग लिया।

 

प्रदेश के अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त (आईआईडीसी) अनूप चन्द्र पाण्डेय ने ‘यूपी इन्वेस्टर्स समिट-2018’ के मिनट टू मिनट कार्यक्रम जारी किया।समिट का उदघाटन पीएम नरेंद्र मोदी सुबह 9.30 बजे करेंगे।राजधानी लखनऊ में पहली बार 21 और 22 फरवरी को यूपी इंवेस्टर्स समिट का आयोजन किया जा रहा है।यूपी इन्वेस्टर्स समिट के लिए सरकार के साथ ही साथ जिला प्रशासन अलर्ट पर है। आयोजन में कोई कमी नहीं रह जाए इसके लिए सरकार और प्रशासन द्वारा एक से एक बढ़कर इंतजाम किए जा रहे हैं। खुद सीएम योगी आयोजन को सफल बनाने के लिए लगातार बैठक कर रहे हैं।पांडेय ने कहा कि पहला सेशन Finland का है जबकि दूसरे सेशन की अध्यक्षता केंद्रीय मंत्री सुरेश प्रभु करेंगे। दूसरा सत्र Netherlands का होगा जो दो बजे शुरू होगा।

 

केंद्रीय मंत्री नितिन गड़करी  इलेक्ट्रिक वाहनों की प्रदर्शनी देखेंगे।सीएम 4बजे से 6 बजे तक कंपनियों के मुख्य अधिशासी अधिकारी से मिलेंगे । शाम  7.30-8.15 तक सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे ।उन्होंने कहा कि दूसरे दिन 22 फरवरी को चेक रिपब्लिक का सेशन है।वितत मंत्री अरूण जेटली कुछ देर से आएँगे। शाम 4.30 -5.30 बजे समापन सत्र में राष्ट्रपति रहेंगे । इसमें अरुण जेटली भी रहेंगे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *