आटो चालक ने पेश की अतिथि देवो भवः की मिसाल, देखिये वीडियो

BREAKING NEWS COUNTRY OUR TEAM STATE story UP VARANASI

वाराणसी-लगता है अतिथि देवो भवः की जिम्मेदारी सिर्फ सरकार और जनता की है।वाराणसी घूमने आए ब्रिटेन के एक दंपत्ति को उस वक्त घोर संकट का सामना करना पड़ा जब ब्रिटेन के ब्रैडफोर्ड स्थित आईटी  कम्पनी में कार्यरत इंजीनियर अमित की पत्नी के पेट मे अचानक तेज दर्द होने लगा।वो माँ बनने वाली थी।अमित किसी की सलाह से मकबूल आलम रोड स्थित एक निजी अस्पताल में अपनी पत्नी को दिखाने अपने एक 10 साल की बिटिया के साथ गया।इमरजेंसी के डॉक्टर ने उसे ऑपरेशन की बात कही।असमर्थ होने पर अमित को किसी और अस्पताल जाना पड़ा।शायद अमित की किस्मत खराब थी कि उसका एटीएम ब्लाक हो गया और अस्पताल प्रशासन ने हाथ खड़े कर दिए।

किसी तरह सिगरा पहुंचने के बाद अमित और उसके परिवार ने एक ऑटो चालक को सारी आपबीती सुनाई जिसके बाद आटो चालक ने वो काम किया जो अस्पताल प्रशासन को करना चाहिए था।एक ऐसी महिला जो प्रसव पीड़ा से बेहाल थी उसे अस्पताल से लौट कर जाना पड़ा इससे बड़ी शर्मनाक बात किसी अस्पताल के लिए नही हो सकती थी।आटो चालक ने उन्हें काशी विद्यापीठ स्वास्थ्य केंद्र पहुँचाया जब रात एक बजे रहे थे।तत्काल इसकी जानकारी अपनी बहन केंद्र पर कार्यरत कार्यकर्ता रत्ना को दी। यहां प्रभारी डॉ. ओपी शुक्ला के निर्देशन में उनकी पूरी टीम तुरंत अलर्ट हो गई और इलाज शुरू कर दिया। शुक्रवार सुबह महिला ने एक बेटे को जन्म दिया। शिवदासपुर निवासी मुन्ना ने अपने घर से ही उनके खाने का इंतजाम किया और फिर शाम करीब पांच बजे उन्हें स्टेशन तक छोड़ा भी।
ऐसे मददगार व्यक्ति को सैलूट करना पड़ेगा।क्योंकि ऐसे व्यक्तियों के वजह से ही बनारस के गौरव आज भी कायम है।यही वजह है कि अतिथि देवो भवः की आज भी मिसाल दी जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *