वाराणसी : वायु प्रदूषण रोकने के लिए सौर ऊर्जा का करें इस्तेमाल

varanasi उत्तर प्रदेश देश
 
आज दिनांक 12 जनवरी 2017 को पर्यावरण के प्रति समर्पित 100 प्रतिशत उत्तर प्रदेश अभियान के अंतर्गत देवा महाविद्यालय में वायु प्रदूषण के सन्दर्भ में एक जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया. इस कार्यक्रम में क्लाइमेट अजेंडा संस्था के अभियानकर्ताओं के साथ साथ महाविद्यालय के छात्र छात्राओं और शिक्षकों ने भाग लिया. दिन प्रतिदिन बढ़ते वायु प्रदूषण के सन्दर्भ में इस कार्यक्रम के माध्यम से सभी को एक छोटी डाक्यूमेंट्री दिखाई गयी और अंत में वायु प्रदूषण के समाधान के रूप में सौर ऊर्जा के अधिकतम इस्तेमाल का संकल्प लिया गया. कार्यक्रम के दौरान उपस्थित लगभग 150 छात्र छात्राओं ने मिल कर शपथ लिया कि वे जीवन से जुड़े हर क्षेत्र में सौर ऊर्जा के उपयोग को बढ़ावा देंगे। एकता ने बताया कि इस तरह से बढ़ते प्रदूषण को मात देने की कोशिश करेंगे.
                   कार्यक्रम की शुरुवात में महाविद्यालय की प्रधानाचार्य डॉ नीता चौबे ने 100 प्रतिशत उत्तर प्रदेश अभियान के सदस्यों का स्वागत करते हुए कहा कि आज वायु प्रदूषण का संकट लगातार गहराता जा रहा है. इस सन्दर्भ में लोगों और सरकार को अभी बहुत कुछ समझना और समझाना बाकी है. ऐसे में, 100 प्रतिशत उत्तर प्रदेश अभियान की ओर से इस सुन्दर पहल के लिए सभी को धन्यवाद देते हुए सौरभ यादव  ने कहा कि ऐसे आयोजन शहर में आये दिन होते रहने चाहियें. महाविद्यालय की ओर से बोलते हुए मनीष चौबे  ने यह वायदा किया कि आने वाले समय में जल्द से जल्द महाविद्यालय को भी सौर ऊर्जा से संचालित किये जाने का प्रयास किया जाएगा ताकि प्रदूषण को यथा संभव कम करने की दिशा में एक पहल की जा सके.
कार्यक्रम के आयोजकों की ओर से बोलते हुए क्लाइमेट एजेंडा की  अभियानकर्ता सानिया  ने महाविद्यालय प्रबंधन का धन्यवाद दिया और ओम प्रकाश  ने कहा कि आज वायु प्रदूषण निरंतर आम जन जीवन को नुकसान पहुंचा रहा है. ऐसे में, अगर हम अपनी ओर से छोटे छोटे उपाय करना शुरू कर दें तो जल्द ही हम इस समस्या से निजात प्राप्त कर लेंगे.
                इस कार्यक्रम में द क्लाइमेट एजेंडा की ओर से रितेश द्विवेदी , संगीता, सुचिता धीरज, सुनील आदि के साथ महाविद्यालय से  खुशबु चौहान, प्रिय गुप्ता, मंजरी सिंह तथा बाकि बच्चो ने सक्रियता से  शामिल हुए.
रिपोर्ट : अनुज मौर्य

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *