एक व्यक्ति ने अपने ही बेटे का किडनैप किया और दादा-नाना से फिरौती की रकम वसूलकर अपना कर्जा चुकाना चाहता था।

Breaking News खेल देश बिज़नेस मनोरंजन

ग्वालियर.चार दिन पहले एक बच्चे के किडनैप करने का राज खुल गया है। बच्चे का किडनैप उसके ही पिता ने किया था और वह अपने ही पिता और बच्चे के नाना से फिरौती की रकम वसूलना चाहता था। यह रकम उसे लाखों का कर्जा उतारने के लिए चाहिए थी, लेकिन पुलिस ने जांच के आधार पर पूरा राज खोल दिया। यह है मामला……..-9 दिसंबर की दोपहर को फोर्ट के उरवाई गेट के पास रहने वाले कमल सिंह किरार का ढाई साल का बेटा शिवांश अचानक गायब हो गया। शाम के समय शिवांश के दादा दिनेश राजपूत के पास फोन आया।
-इस फोन में बताया गया कि उनका पोता शिवांश बदमाशों के कब्जे में है और पुलिस को बताया कि बच्चे की लाश मिलेगी। बदमाशों ने कुछ देर फोन करने की बात कही।
-इस बीच बच्चे के पिता कमल सिंह पुलिस के पास पहुंच चुके थे और पुलिस ने शिवांश की तलाश करना शुरू कर दी। बच्चे की खोज चल ही रही थी कि अचानकर बच्चा महाराज बाड़े के पोस्ट ऑफिस की सीढ़ियों पर बैठा मिल गया।
-पुलिस ने तुरंत कमल सिंह को शिवांश के मिलने की जानकारी दी। बच्चे को सुरक्षित देखकर परिजन खुश हो गए और पुलिस ने भी चैन की सांस ली।
-इसके बाद पुलिस उस फोन करने वाले व्यक्ति की तलाश में लग गई, जिसने शिवांश के दादा दिनेश राजपूत को फोन किया था। उस समय तो फोन बंद जा रहा था।

फोन से खुला किडनैप का राज
-मंगलवार की शाम को फोन फिर से चालू हो गया। पुलिस इससे फोन करने वाले की लोकेशन निकाल ली और उसे पकड़ लिया। यह व्यक्ति राम मराठा था। राम मराठा ने किडनैप की पूरी कहानी पुलिस को बता दी।
-राम मराठा ने पुलिस को बताया कि शिवांश की किडनैप की योजना उसके ही पिता कमल सिंह ने बनाई थी। कमल सिंह के ऊपर 4 लाख रुपए का कर्जा था, जिसे पटाने के लिए उसने अपने ही पिता और शिवांश के दादा से फिरौती लेने की कोशिश की।

ऐसे बनाई किडनैप की योजना
-कमल सिंह योजना के मुताबिक घर से शिवांश को लिया और इधर-उधर घुमाकर महाराज बाड़े पर छोड़ दिया। पुलिस को कमल पर शक घटना वाले दिन हो गया था, क्योंकि बच्चा किसी अजनबी के साथ रहा और रोया तक नहीं।
-जब शिवांश मिल गया तो उस समय पिता कमल सिंह ने यही कहा कि बच्चा खुश है और उसे किडनैपर्स ने परेशान नहीं किया है। अब पुलिस ने कमल सिंह को भी गिरफ्तार कर लिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *